योगी कर्नाटक छोड़ यूपी की जनता के बीच आएं वरना वहीं मठ बना लें : अखिलेश

लखनऊ । कर्नाटक में चुनाव प्रचार पर गए मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ पर निशाना साधते हुए कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया के साथ सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भी ट्वीट के जरिए निशाना साधा है। सिद्धारमैया ने ट्वीट कर कहा कि ऐसे समय में जब योगी की जरूरत यूपी में ज्यादा है तो वह कर्नाटक में चुनाव प्रचार कर रहे हैं। मुझे उम्मीद है कि वह जल्द ही यूपी वापस लौटेंगे और जनता की मदद करेंगे। उन्होंने मृतकों व उनके परिवारीजन के लिए संवेदना भी व्यक्त की। योगी को वापस आने की सलाह सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भी ट्वीट कर योगी को वापस आने की सलाह दी है। उन्होंने कहा, सीएम योगी को कर्नाटक का चुनाव प्रचार छोड़कर तुरंत यूपी वापस आना चाहिए था। जनता ने उन्हें अपने प्रदेश की समस्याओं के समाधान के लिए चुना है, न कि कर्नाटक में राजनीति के लिये। 
     इन हालात में भी अगर वो वापस नहीं आते हैं तो फिर हमेशा के लिए अपना मठ वहीं बना लें। बता दें कि अखिलेश ने इससे पहले ट्वीट किया कि प्रदेश में आंधी-तूफान से 64 लोगों की मृत्यु अत्यंत दुखद है। मैं हर प्रदेशवासी व अपने कार्यकर्ताओं से अपील करता हूं कि वो जरूरतमंदों की हरसंभव मदद करने के लिए आगे आएं। हमारे प्रदेश के लिए संकट का समय है, हम सबको मिलकर खड़ा होना होगा। दो मई को किसानों के बीच योगी सरकार, सात प्रगतिशील किसान होंगे सम्मानित यह भी पढ़ें शिक्षा क्षेत्र को राजनीतिक आग में न झोंके : अखिलेश अखिलेश यादव ने अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (एएमयू) के छात्रों पर लाठीचार्ज की निंदा करते हुए शिक्षा के क्षेत्र को राजनीतिक आग में न झोंकने को कहा है। गुरुवार को किए ट्वीट में अखिलेश ने कहा, एएमयू के छात्रों पर लाठीचार्ज करवाना किस तरह की राजनीति है। कम से कम शिक्षा के क्षेत्र को तो राजनीतिक आग में नहीं झोंकना चाहिए। पुलिस ने जिस प्रकार अपनी भूमिका निभाई है, उससे लगता है कि इस सरकार में पुलिस सबके लिए न हो कर कुछ खास लोगों के लिए ही सक्रिय होने को मजबूर है। 


      कर्नाटक को जेहादियों की शरणस्थली नहीं बनने देंगे: योगी कहीं उत्तर प्रदेश भाजपा पर भारी न पड़ जाए कार्यकर्ताओं का बढ़ता असंतोष यह भी पढ़ें उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि भाजपा कर्नाटक को जेहादियों की शरणस्थली नहीं बनने देगी। वह आज कर्नाटक के शिमोगा जनपद स्थित एक तालुका सागर में चुनावी सभा को संबोधित कर रहे थे। कर्नाटक की कांग्रेस सरकार पर प्रहार करते हुए योगी ने कहा कि कर्नाटक में यासीन भटकल जैसे जेहादी पलते रहे हैं। यही कारण है कि यहां 23 देशभक्तों की हत्याएं हो चुकी हैं। एक साल पहले तक ऐसी ही स्थिति उत्तरप्रदेश में भी थी। ऐसे जेहादियों से निपटने के लिए एक अच्छी सरकार की जरूरत होती है। हमें कांग्रेस की विभाजनकारी मंसा नहीं, प्रधानमंत्री के सपनों के अनुसार एक भारत-श्रेष्ठ भारत की परिकल्पना को साकार करनेवाली सरकार चाहिए। राज्य में भाजपा की सरकार बनने के बाद कर्नाटक में कांग्रेस शासन के दौरान चला आ रहा लूट-खसोट का दौर खत्म होगा। कर्नाटक कांग्रेस का एटीएम बनने से बचेगा। 
      कुछ दिनों पहले कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने योगी के कर्नाटक आने पर सवाल उठाया था। जिसका उत्तर देते हुए योगी आदित्यनाथ ने कहा कि हमारा तो कर्नाटक से संबंध बहुत पुराना है, जितना स्वयं सिद्धारमैया का भी नहीं होगा। हमारा योगेश्वर मठ इसी राज्य में है। काशी के कालभैरव की तरह ही यहां योगेश्वर भैरव हैं। योगी ने हनुमान जी को भी उत्तरप्रदेश एवं कर्नाटक को जोड़नेवाली एक कड़ी के रूप में प्रस्तुत करते हुए कहा कि जब राम अपने वनवासकाल में जंगलों में भटक रहे थे, तब इसी धरती ने उन्हें हनुमान के रूप में सबसे विश्वस्त साथी प्रदान किया। आज पूरे उत्तर भारत में जितने मंदिर बजरंगबली के पाए जाते हैं, उतने राम के भी नहीं मिलते। योगी सागर के गांधी मैदान की सार्वजनिक सभा में जाने से पहले श्री रामचंद्रपुरा मठ के मठाधीश श्रीमज्जगद्गुरु शंकराचार्य श्रीमद् राघवेश्वर भारती महाराज महास्वामी से भी मिलने गए। राघवेश्वर भारती द्वारा कर्नाटक में देसी गायों के संरक्षण के लिए गोतीर्थ बनाने की परियोजना शुरू करने जा रहे हैं। फिर सभा में बोलते हुए योगी ने कहा कि कर्नाटक के मुख्यमंत्री एवं राजस्व मंत्री गोमांस भक्षण का प्रोत्साहन देते हैं। हमें यहां से ऐसी सरकार को हटाकर कांग्रेसमुक्त कर्नाटक का सपना साकार करना चाहिए, ताकि यहां गायों की रक्षा हो सके।

Reactions: