शीत लहर ने कप कपया, मासूम बच्चों को सुबह से लाया जाता है और शाम को पहुचते है घर

विजेन्द्रसिंह ठाकुर
टोंकखुर्द। शीत लहर से कप कपाया अंचल जगह जगह अलाव जलने लगे।स्कूलों में छोटे बालको को बिना सुरक्षा के सुबह से लाया जाता है। वाहनों के फिट नेश भी नही। पिछले दो दिनों से टोंकखुर्द सहित क्षेत्र में तापमान की गिरावट से ठंड ने दस्तक देदी ओर सुबह शाम ठण्डी शीत लहर चल रही है जिसके चलते लोग जगह जगह अलाव जलाते नजर आरहे है। वही देवास जिला कलेक्टर ने सुबह जल्दी लगने वाले  अभी शासकिय व अशासकीय स्कूलों का समय 9 बजे से करने का आदेश जारी किया।परन्तु सुबह 9 बजे लगने वाले अधिकतर स्कूल के बच्चे 15 से 20 किमी दूर ग्रामीण अंचल से बस या अन्य वाहनों से सुबह 9 बजे स्कूल पहुचने के लिए सुबह 6 से 7 के बीच निकलते है जब जाकर 9 बजे स्कूल पहुँचते है वही कई स्कूलों में वाहन की कमी होने से बच्चों को एक साथ सुबह जल्दी स्कूल लाया जाता है या दूसरी ट्रिप के चक्कर मे भी जल्दी बच्चों एकत्रित किया जाता है वही छुट्टी होने के बाद भी देर शाम तक बच्चों को स्कूलों में रखा जाता है यंहा तक कि कई स्कूलो में तो पूरा स्टाफ छुट्टी होते ही अपने घर चले जाते है और स्कूल के चौकीदार के भरोसे बच्चों को छोड़ देते है जब स्कूल वाहन ट्रिप छोड़ कर आता उसके बाद बाकी बच्चे घर जाते है। आज तक किसी ने ध्यान नही दिया। कई स्कूल वाहनों में काच नही है तो कई बगेर परमिट के खटारा वाहनों से नंन्ही नंन्ही मासूम जान के साथ खिलवाड़ कर रहे है स्कूल संचालक। छोटी छोटी मारुति वैन में 20 से 25 बच्चों को ठूस ठूस कर स्कूल लाया जाता है। इस ओर भी प्रशासन को ध्यान देने की जरूरत है।

हेडिंग में जोड़ देना कलेक्टर ने समय 9 बजे का किया

Reactions: