राष्ट्रीय लोक अदालत में हुआ प्रकरणों का निराकरण व् लाखो रुपयो की हुई वसूली


विजेंद्र सिंह का रिपोर्ट। ......                                                                                                                                      टोंकखुर्द ।शनिवार को टोंकखुर्द न्यायालय परिसर में राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन किया गया ।लोक अदालत के प्रारंभ में न्यायाधीश श्री  विकास चौहान व सुश्री मधुलिका मुले ने मां सरस्वती के चित्र पर माल्यार्पण व दीप प्रज्वलित कर लोक अदालत का विधिवत शुभारंभ किया ।इस अवसर पर उपस्थित पक्षकारों को संबोधित करते हुए न्यायाधीश विकास चौहान ने कहा कि लोक अदालत के माध्यम से प्रकरणों का तत्काल निपटारा हो जाता है और इसमें समय और धन की बचत होती है तथा बिना किसी खर्च के प्रकरणों का निशुल्क निराकरण होता।  वही न्यायाधीश सुश्री मुले ने कहा कि लोक अदालत के माध्यम से दीवानी तथा चेक बाउंस के प्रकरणों राजीनामा करने से न्याय शुल्क नियमानुसार वापिस मिल जाता है वही  नगरीय निकायों के विभिन्न करो व् बैंक के ऋण  प्रकरणों का निराकरण करने पर ऋण व् कर राशि पर छूट भी दी जाती है। लोक अदालत में  ना कोई जीता ना कोई हारा की तर्ज पर प्रकरणों का निपटारा होता है । टोंकखुर्द न्यायालय में लोक अदालत के लिए गठित श्री विकास चौहान की खंड पीठ में रखे गए कुल 25 आपराधिक में से 2  व् 10 दीवानी  प्रकरण व् सुश्री मधुलिका मुले की खंडपीठ में रखे गए कुल प्रकरण में 5 घरेलू हिंसा में से 0 व् 2 दीवानी प्रकरण में से 0 व् 8 आपराधिक प्रकरण में स3 2 व्  चेक बाउंस के 4 प्रकरण में से 4 प्रकरणों में पक्षकारों द्वारा राजीनामा किया गया।तथा तथा दोनों खंडपीठों में विभिन्न बेंको व् नगर परिषद् के 500 के लगभग वसूली के प्रकरण  रखे गए थे। जिसमे से कई प्रकरणों का निराकरण हुआ 485000 रु की राशि प्राप्त हुई। लोक अदालत में सुलह कराने में अभिभाषक संघ अध्यक्ष सुमेरसिंह यादव .सचिव पदमसिंह उदाना. वरिष्ठ अभिभाषक दिलीपसिंह पवार. सौदानसिंह ठाकुर .जगदीशसिंह गालोदिया. गोविंदसिंह वर्मा. मुश्ताक अहमद सिद्दीकी .श्यामसिंह गालोदिया. पदम् सिंह उदाना ,संतोष सिंह जाट .सहायक जिला लोक अभियोजन अधिकारी जगजीवनराम सवासिया. कविता तिवारी. आशीष भंडारी अंतरलाल खरवाडिया  जगदीश लाठिया .पैरालीगल रविंद्रसिंह गौर ,भगवानसिंह यादव तथा न्यायालयीन  कर्मचारीगण दिनेश पाठक .संजय जोशी,सुनील वर्मा, पूरणलाल प्रजापत .प्रणय  काबरा. कुलदीप वर्मा. अतुल वर्मा,किशोर सिंह कुशवाह .केदारसिंह मंडलोई. शिवनारायण शर्मा .रमेश मालवी.विक्रमसिंह  चंदेल. चंदर चौहान ,जगदीश जगताप,केशव हर्निया,रवि दुबे .राजनंदिनी गौड़,रोहितसिंह सिसोदिया.विकास डुडवे आदि का सराहनीय योगदान रहा।

लोक अदालत का आयोजन

Reactions: