देह,देव एंव देश को अवश्य समय दे - प.नागर

टोंकखुर्द से विजेन्द्रसिंह ठाकुर ... देह,देव एंव देश को अवश्य समय दे - प.नागर
    गोविंदधाम कनासिया नाका पर आज हुए राम नाम सत्संग एवम अमृत वाणी कार्यक्रम में खचाखच भरे हाल में दूर दूर से आम जन एवम महिलाओ ने राम रस का अमृत पान किया।
     कार्यक्रम में "श्री इंदर सिंह नागर" ने भजन,कीर्तन,सत्संग ओर अमृतवाणी का वाचन कर लगातार 3 घण्टे तक धर्मप्राण जनता को बांधे रखा।
     सत्संग में उपडी, फतनपूर, शाजापुर, पिपलिया, चिड़ावद, मक्सी, कनासिया, सूरजपुर, झोंकर,देवास, सुमराखेड़ा,साकरी, आलरी,बेलरी  सिया,फाण्या, गोलवा, कल्मा आदि ग्रामो से बड़ी संख्या में श्रद्धालु बन्धुओ ने आकर कार्यक्रम में चार चांद लगाए जहाँ भजनों पर मदमस्त होकर स्रोताओं ने खूब ठुमके लगाए तो कुछ स्रोता भावविभोर होकर कार्यक्रम का आनंद लेते नज़र आये।
    कार्यक्रम के अंतराल में देवास से पधारे कवि श्री निर्मल ने अपना कविता पाठ कर माहौल को विनोदी बना दिया। तो वही अमृत वाणी में बेटी का महत्व बताते हुए कहा बेटियाँ दो घर सुधारती है, प्रत्येक घर मे एक बेटी होना चाहिए और यह केवल नसीब वालो के यहां होता है वे ही कन्यादान का फल प्राप्त करते है। बेटी है तो कल है, बेटी है तो घर स्वर्ग है। इसी प्रकार से पति को अपनी पत्नी का ख्याल रखना चाहिए वह अपना सब कुछ छोड़कर  पति के साथ आती है। पत्नी को भी चाहिए कि पति का ध्यान रखे। पति स्वभाव से स्वाभिमानी होता है तो वही पत्नी जिद्दी किस्म का स्वभाव लिए होती है। दोनों में सामंजस्य बैठा कर आपास में प्रेम से रहना ही परिवार को बांधता है।
     प्रत्येक  व्यक्ति को एक घण्टा देह के लिए, एक घण्टा देव (माता-पिता)बड़े बुजुर्गों के लिए ओर एक घण्टा देश के लिए समाज के लिए अवश्य ही देना चाहिये। देह के लिए एक घण्टा देने से स्वास्थ्य अच्छा रहेगा आप स्वस्थ होकर लम्बी आयु को प्राप्त करेंगे। एक घण्टा देव यानी हमारे माता पिता को देना चाहिए। माता पिता को उम्र के अंतिम पड़ाव में आप से कुछ नही चाहिए वे बस ये चाहते है कि आप उनके पास बैठकर कुछ बाते कर उनका मन हल्का अवश्य कर दे इससे वे आपको आशीर्वाद रूपी वो पूंजी देंगे जो आपको जीवनभर साथ देगी। तीसरा घण्टा आप उस देश को अवश्य दे जिसका आपने नमक खाया है देश के बारे में चिंतन करे अगर हो सके तो अवश्य कुछ करे समाज के लिये कुछ अच्छे कार्य करे जैसे ठंड के दिन आ रहे है गरीब और बेसहारा लोगो को आप अपने वस्त्र देकर उनको भोजन करा कर कुछ नेक कार्य कर सकते है ओर भी कई कार्य हो सकते है यह तो आपको सोचना है कि में अपने देश समाज को क्या दे सकता हूँ।
     इस अवसर पर झोंकर से पधारे वरिष्ठ समाजिक कार्यकर्ता श्री गोवर्धनलाल गुप्ता का हार पहना कर सम्मान श्री नागर ने यह कह कर किया कि उन्होंने अपना सम्पूर्ण जीवन समाज कार्य करते हुए बिताया है इनसे हमे प्रेरणा लेने की आवश्यकता है।
     ईश्वर ने मनुष्य को शक्ति,बुद्धि ओर धन धान्य से परिपूर्ण बनाया है आप मे जो भी सामर्थ्य हो उस अनुसार आप देश, धर्म और समाज की सेवा अवश्य ही करे।
     कार्यक्रम के अंत मे आना जी आना बाबा मस्ताना पर सभी साधक खूब थिरके। आरती उपरांत कार्यक्रम का समापन हुआ।
      कार्यक्रम देर शाम लगभग 4:30 बजे तक चला। कार्यक्रम में श्री रामचरण देथलिया मारसाब की तरफ से  भोजन प्रशादी का भी आयोजन था। 
      ज्ञात रहे श्री उमेश-महेश देथलिया, श्री नागर के सत्संग एवम अमृत वाणी कार्यक्रम का आयोजन हर वर्ष अपने गोविंदधाम परिसर में कराते है। सभी धर्मप्राण जन ने कार्यक्रम की मुक्तकंठ से भूरी भूरी प्रसंशा की।
    अगला कार्यक्रम दिनांक 23/12/18 को ग्राम फतनपुर में होगा। जिसके समय 10:30से शाम 5 बजे तक होगा। कार्यक्रम के बीच अंतराल में भोजन प्रशादी व विश्राम हेतु 1 से 3 बजे का समय भी होगा। कार्यक्रम को सफल बनाने की अपील समस्त साधक गण ग्राम फतनपुर ने की है।

गोविंदधाम कनासिया नाका पर आज हुए राम नाम सत्संग एवम अमृत वाणी कार्यक्रम

Reactions: