490 बच्चों का भविष्य अंधकार में : मीना देवी

मुखिया मीना देवी ने पंचायत क्षेत्र का किया दौरा कई विद्यालयों के किए गए औचक निरीक्षण

संवाददाता-विवेक चौबे
कांडी-प्रखण्ड मुखिया संघ सह सरकोनी पंचायत मुखिया मीना देवी के द्वारा पंचायत क्षेत्र का दौरा किया गया।मुखिया मीना देवी ने जानकारी देते हुए बताया  की राजकीय बुनियादी विद्यालय सेमौरा,कोआड़ी,सरकोनी का औचक निरीक्षण किया गया।इस निरीक्षण व दौरा में सरकोनी विद्यालय बंद पाया गया।विद्यालय बंद पड़े रहने का मुख्य कारण पारा शिक्षकों के हड़ताल है।वहीं कोआड़ी व सेमौरा विद्यालय खुला पाया गया।कोआड़ी विद्यालय में दो शिक्षक थे। वहीं सेमौरा विद्यालय में 490 बच्चों के लिए केवल एक शिक्षक ही हैं। मुखिया मीना देवी ने कहा कि चिंता इस बात को जानकर हुई कि 31/1/2018 को मात्र एक शिक्षक रामचंद्र प्रसाद मेहता का सेवा समाप्त हो जाएगी। राजकीय बुनियादी विद्यालय सेमौरा भी सरकोनी जैसा ही शिक्षक के अभाव में बंद हो जाएगा।क्या होगा इन 490 बच्चों का भविष्य,जो एक बड़ी चिंता का विषय बना हुआ है।मुखिया मीना देवी ने कहा कि पारा शिक्षक के हड़ताल को समाप्त करने का सरकार कोई रास्ता निकाले,क्योंकि बच्चे ही देश के भविष्य हैं।बताते चलें कि लगभग दो माह से शिक्षा व्यवस्था का हाल बहुत ही खराब है।साथ ही मीना देवी ने कहा कि राजकीय बुनियादी विद्यालय सेमौरा को लगभग नौ लाख रुपये खाता में रख कर पूर्व प्रधानाध्यपक सेमौरा शोभ नाथ प्रसाद अभी तक विद्यालय का काम पूरा नहीं कर सके हैं।डीसी डॉ.नेहा आरोड़ा के साथ ही मुख्यमंत्री को भी डाक द्वारा आवेदन मुखिया द्वारा दिया गया था।शोभ नाथ प्रसाद काम शुरू करके फिर बंद कर दिए हैं।इस विषय पर मीना देवी ने कहा कि इसके लिए जल्द ही जिला अधिकारी से मिलूंगी।
[ads-post]
[img featured="1" src="https://1.bp.blogspot.com/-JTKSZDUvafs/XDg-xVDFvFI/AAAAAAAABeM/aqvtdf1jdR8la_797g40KiAA4OHL7mAZACK4BGAYYCw/s1600/7d20affd-9da4-4b37-9eb0-46df797b489f.jpg"/]
[img featured="1" src="https://1.bp.blogspot.com/-0slDO0hlBzY/XDg-wATaDRI/AAAAAAAABeE/SdJQSjO4z34b2Z_46TMox4VJwMZbe6cCACK4BGAYYCw/s1600/d9640860-8835-4766-a22e-2c7bad2856c4.jpg"/]
[img featured="1" src="https://1.bp.blogspot.com/-JTKSZDUvafs/XDg-xVDFvFI/AAAAAAAABeM/aqvtdf1jdR8la_797g40KiAA4OHL7mAZACK4BGAYYCw/s1600/7d20affd-9da4-4b37-9eb0-46df797b489f.jpg"/]

कई विद्यालयों के किए गए औचक निरीक्षण

Reactions: