शिक्षित समाज में नामदेव दास (कंप्यूटर) जैसे फर्जी बाबाओं की कोई जगह नहीं

ब्यूरो रिपोर्ट। ......                                 
                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                  मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के छोटे भाई और चांचौड़ा के विधायक लक्ष्मण सिंह  ने मध्य प्रदेश नदी न्यास के अध्यक्ष नामदेव दास उर्फ कंप्यूटर बाबा को फर्जी बताया है। लक्ष्मण सिंह ने कहा कि शिक्षित समाज में ऐसे फर्जी बाबाओं की कोई आवश्यकता नहीं है। जो तप करते हैं। साधना करते हैं सही मायने में वह संत है। समाज के लोग उन्हें संत मानते हैं । और मैं भी मानता हूं। लेकिन कंप्यूटर बाबा जैसे फर्जी बाबाओं को हमारा समाज संत के रूप में स्वीकार नहीं करेगा। कांग्रेस अगर ऐसे फर्जी बाबाओं को संरक्षण देगी तो भविष्य में भारी नुकसान होने की पूरी संभावना है पूर्व में भी ऐसे फर्जी बाबाओं से कांग्रेस को काफी हानि पहुंची है लक्ष्मण सिंह ने कंप्यूटर बाबा के उस बयान पर पलटवार किया है जिसमें उन्होंने 17 फरवरी को कहा था कि लक्ष्मण सिंह जिस मामले में कुछ नहीं जानते उस पर भी बोलते हैं वही लक्ष्मण सिंह के बयान पर कंप्यूटर बाबा ने कहा जो उन्हें अच्छा लगता है ।बोले मुझे जो सही लगता है। मैं वही कहूंगा।
                                                                                                                                                           विधायक लक्ष्मण सिंह ने यह भी कहा की मैं 5 बार लोकसभा से चुना गया हूं तीसरी बार विधानसभा में चुना गया अगर मैं अंगल बातें करता तो इतनी बार नहीं चुना जाता कंप्यूटर बाबा यह कह रहे हैं कि मैं अनगर्ल बात कर रहा हूं तो वाह अपमान मेरा नहीं है मतदाताओं का अपमान है जिन्होंने मुझे पांच बार लोकसभा और तीसरी बार विधानसभा में चुना है।
                                                                                                                                                                    लक्ष्मण सिंह कांग्रेस पार्टी को फर्जी बाबा से दूरियां बनाने की नसीहत देते हुए कहा कि कांग्रेस की  आड़ में अपना खेल खेलना बंद करें बाबा। ऐसे बाबा केवल नुकसान ही कर सकते हैं इनसे कोई लाभ नहीं होगा। अंत में लक्ष्मण सिंह ने कहा कि उनकी आस्था सच्चे साधु संतों पर हमेशा रही है। और रहेगी। लेकिन फर्जी बाबाओं के खिलाफ वह हमेशा खड़े होंगे।
                                                                                                                                                             सिंह की बातों से या अनुमान लगाया जा रहा है। कि कंप्यूटर बाबा सिर्फ अपनी जेब भर रहे हैं। अगर उन्हें नदियों की वास्तव में चिंता है।तो वह नदियों के विकास के कार्य करें नदियों पर श्रद्धालुओं के लिए घाट बनाएं। नदी संरक्षण हेतु नदियों के आस-पास पेड़ पौधे लगवाए। उनकी सफाई व्यवस्था पर ध्यान दें। नदियों के सौंदर्यीकरण पर ध्यान दें। लेकिन ऐसा ना करते हुए कंप्यूटर बाबा सिर्फ रेत माफियाओं से सांठगांठ करके खुद का ही विकास कर रहे हैं।

मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के छोटे भाई और चांचौड़ा के विधायक लक्ष्मण सिंह

Reactions: