मैं बड़ा उदासीन अखाड़े का संत हूं मेरा कोई कुछ नहीं बिगाड़ सकता है... लोकेश नंद महाराज



संवाददाता सुनील परमार शमशाबाद -कुछ विवादित संतों के कारण आज गेरुआ वस्त्र धारण करने वाले सभी संतों की छवि पर प्रश्न चिन्ह लगा है।आज कुछ ऐसे ही ढोंगी संत के बारे में हम आपको बताएंगे
   आज जहां हमारा समाज संतो को पूजता है।समाज में उन्हें भगवान का दर्जा दिया जाता है। वही आज गेरुआ वस्त्र धारण करने वाले बड़ा उदासीन अखाड़े के संत लोकेश नंद महाराज पर उन्हीं की शिष्या साध्वी माला किशोरी परिवर्तित नाम ने अश्लील हरकत करने का आरोप लगाया है।
       साध्वी माला किशोरी ने बताया कि मैं बहुत दिनों से लोकेश नंद महाराज के आश्रम में सेवा भाव करने के लिए जाती थी। कुछ दिनों तक तो उनका व्यवहार मेरे प्रति ठीक रहा किंतु कुछ दिनों के बाद वह मुझे गलत नजर से देखने लगे, बातों ही बातों में मेरे शरीर को छूने लगे मेरे साथ अश्लील हरकत करने लगे व मुझसे संबंध बनाने के लिए मुझ पर दबाव डालने लगे जब मैंने लोकेश नंद महाराज कि इन अश्लील हरकतों का विरोध किया।और पुलिस से शिकायत करने का कहा तो, मुझे धमकी देने लगे कि मैं बड़ा उदासीन अखाड़े का संत हूं मेरा कोई कुछ नहीं बिगाड़ सकता कलेक्टर टीआई एसपी शासन प्रशासन मेरी जेब में रहते हैं।वह लोग तो मेरे पैर छूते हैं वह मेरा कुछ नहीं कर सकते है।
         इसके बाद साध्वी माला किशोरी ने बताया कि जब मैं लोकेश नंद महाराज की शिकायत करने थाने पहुंची तो टीआई ने मेरी रिपोर्ट लिखने से मना कर दिया और मुझे यह कहकर वापस भेज दिया कि वह बहुत बड़े संत है वह ऐसी हरकत नहीं कर सकते हैं।
           इसका मतलब तो यही हुआ कि सही में कलेक्टर एस पी टीआई शासन-प्रशासन महाराज की जेब में है।मैं सब जगह न्याय की गुहार लगा चुकी हूं किंतु कहीं से भी मुझे न्याय नहीं मिल रहा है ऐसे में अब मेरे पास मीडिया ही एक सहारा है जो मुझे न्याय दिला सके।
    आपको बता दें कि लोकेश नंद महाराज जैसे कुछ पाखंडी,जो संतों का चोला ओढ़ कर राक्षसों जैसा काम करते हैं। ऐसे ही ढोंगी ओ के कारण पूरा संत समाज बदनाम होता है


  और इस मामले में जब हमने लोकेशन महाराज से बात की तो उन्होंने कहां की मुझे कुछ पता ही नहीं है मैं उक्त महिला को जानता भी नहीं और वह कभी भी मेरे आश्रम पर नहीं आई हैं 

Reactions: